Chankya Ke Top 10 Anmol Vachan Hindi Me

|| जय हिन्द -जय हिंदुस्तान ||
दोस्तों अब आप गोसहयता.com ब्लॉग पर हिंदी में महान व्यक्तियों के अनमोल वचन भी पढ़ सकते हैं | इसी लिए आज की इस पोस्ट में आप पढेंगे "चाणक्य के टॉप 10 अनमोल वचन हिंदी में" |

दोस्तों वैसे तो भारत भूमि पर कई महान व्यक्तियों ने जन्म लिया है इसी लिए भारत की भूमि को पवित्र माना जाता है क्योकि यहाँ स्वम भगवान ने जन्म लिया हैं (राम,कृष्णा,विष्णु,महादेव आदि)
लेकिन आज हम एक ऐसे  व्यक्ति के वचनों के बारे में बात करने जा रहें है ,जो जिन्दगी में कभी किसी डर नहीं हो और जो एक बहुत बड़ा Economic रहा हो |

Chankya

वैसे भी चाणक्य अपने वचनों के करना ही जाने जाते हैं | तो चलिए हम भी आज उनके प्रमुख सुविचारों में से 10 विचार जान लेते हैं |

Chankya Ke Top 10 Anmol Vachan हिंदी में !

अनमोल वचन @1 

जो तुम्हारी बात को सुनते हुए इधर-उधर देखे उस व्यक्ति पर कभी भी विश्वास न करें ||

अनमोल वचन @ 2 

बुध्दिमान व्यक्ति का कोई दुश्मन नहीं होता  ||

सुविचार @ 3 

एक अनपढ़ व्यक्ति का जीवन, उसी  तरह होता है ||
 जैसे कुत्ते की पूछ ,जो न ही उसके पीछे का भाग ढकती है ||
और न ही उसे कीड़ो से बचाती हैं ||

सुविचार @ 4 

दुश्मन द्वारा अगर मधुर व्यवहार किया जाये तो उसे दोष मुक्त नहीं समझना चाहिएं ||

अनमोल वचन @5 

आलसी मनुष्य का वर्तमान और भविष्य नहीं होता हैं ||

विचार @6
कभी भी अपनी कमजोरी को खुद उजागर न करो |
विचार @7
दंड का डर नहीं होने से लोग गलत कार्य करने लग जाते हैं |
विचार @8
जो व्यक्ति शक्ति न होने पर मन में हार नहीं मानता उसे संसार की कोई भी ताकत परास्त नहीं कर सकती है |
Chanakya Quotes In Hindi @9
जब आप किसी काम की शुरुआत करें, तो असफलता से मत डरें और उस काम को न छोड़ें |
क्योकि जो लोग ईमानदारी से काम करते हैं वो सबसे प्रसन्न रहते हैं ||
चाणक्य कोट्स हिंदी में @10 
वो व्यक्ति जिसका ज्ञान किताबों तक सीमित है और जिसका धन दूसरों के कब्जे में हैं वो जरूरत पड़ने पर न अपना ज्ञान प्रयोग कर सकता और न धन ||

अंतिम बोल :-

                   तो दोस्तों आज की ये पोस्ट आपको कैसी लगी हमें comment करके जरुर बताये और अगर फिर भी आपके मन में कोई सवाल है तो नीचे कमेंट जरुर करें |
हमारे साथ जुड़ने के लिए हमें Subscribe करें and Social Site पर Follow करें |
पूरा पोस्ट ध्यान से पढ़ें के लिए धन्यवाद ||

1 comment: